महिला सशक्तिकरण पर व्याख्यान माला | shivnath college | Rajnandgaon
inner-header
महिला सशक्तिकरण पर व्याख्यान माला.
Posted by / Sunday, 20 Aug, 2017

‘‘आगे-आगे बढ़ना है, तो हिम्मत हारे मत बैठो’’ शिवनाथ महाविद्यालय में महिला उत्पीड़न निवारण समिति द्वारा दिनांक 19-08-2017 को ‘‘महिला सशक्तिकरण’’ पर व्याख्यान माला प्राचार्य डाॅ. सुमन सिंह बघेल के मार्गदर्शन में आयोजित किया गया। कार्यक्रम की मुख्य अतिथि समाज सेवी पद्मश्री श्रीमती फुलबासन बाई यादव, तथा विशेष अतिथि वक्ता डा. विभा सिंग, प्राध्यापक (राजनीति विज्ञान) कल्याण महाविद्यालय भिलाई थी।
पद्मश्री फूलबासन बाई यादव ने कहा कि महिलाओं का जीवन गुलाब के पौधे की तरह कांटो भरे वातावरण में रह कर भी खिलता है तथा अपनी खुशबू फैलाता है। उन्होंने अपने भाषण में अपने जीवन संघर्ष के कटु अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि जो पढ़ता हैं वही कमाता है, वही आगे बढ़ता है। आगे बढ़ने वालों को कोई रोक नही सकता। इसलिए अपने मन को शांत रख कर काम करते चलो, वही पूजा है यही धर्म है। उन्होंने कहा पढ़ाई, सफाई, भलाई इन तीन उद्धेश्य को उन्होंने अपने जीवन का आधार बनाया और हजारों नारियों के स्वालंबी और स्वाभिमान पूर्ण जीवन का जरिया बनी। आज उनके उद्धेश्य मात्र गांव या शहर तक ही सीमित नहीं है बल्कि पूरे देश में फैल चुके है। उन्होंने अपने गीत के माध्यम -‘‘आगे आगे बढ़ना है तो हिम्मत हारे मत बैठो’’ से संपूर्ण महाविद्यालय को प्रेरणा और सीख दी। विशेष अतिथि डाॅ. विभा सिंह ने कम्युनिकेशन के महत्व को समझाया। सवाल जवाब की उनकी शैली ने सबकी भागीदारी को महत्वपूर्ण बना दिया। उन्होंने महिला सशक्तिकरण का अभिप्राय समझाया। उन्होंने कहा स्त्री पुरूष के मध्य भेदभाव को भूलाकर उससे उपर उठकर सोचने की सलाह दी। भाषण की पूरी प्रक्रिया में विद्यार्थियों ने खूब आनंद लिया। उन्हें ज्ञानवर्धक एवं रोचक जानकारी मिली।
कार्यक्रम का प्रारंभ सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्जवन से हुआ। प्राचार्य डाॅ. सुमन सिंह बघेल ने समस्त प्रध्यापको, छात्र-छात्राओं को मानसिक एवं शारीरिक रूप से सशक्त रहने के उद्गार दिये। कार्यक्रम की संयोजक डाॅ. नागरत्ना गनवीर ने कार्यक्रम संचालन किया उन्होंने कहा कि महिलाओं में अपार शक्ति है। उनमें धैर्य है, सहन शक्ति है, पक्का इरादा है। वह परिवार के समस्त सदस्यों को अपने स्नेह बंधन में बांध कर परिवार रूपी नाव की पतवार बनती है। महिलाओं का जिस घर में सम्मान होता है वहां सभी ईश्वरीय शक्तियाॅ विद्यमान होती है। कार्यक्रम में आये सभी अतिथियों एवं विद्यार्थियों का उन्होंने आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर प्रो. निर्मला जैन, प्रो. निर्मला उमरे, प्रो. पी.पटेल, प्रो. ए.भगत प्रो. एस.आर.कन्नोजे, प्रो. स्वाति तिवारी, श्री परेश वर्मा एवं अधिक संख्या में विद्यार्थियों ने उपस्थित होकर कार्यक्रम को सफल बनाया।